मिलिए एक ऐसे मुस्लिम शख्स से जो भाजपा जैसी 25 पार्टियों को एक झटके में खरीदने की हैसियत रखते है..

0

कुछ दिन पहले सेना अध्यक्ष बिपिन रावत ने ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फंट (AIUDF) की तुलना भाजपा से करते हुए बयान दिया था, ” असम में AIUDF नाम की एक पार्टी है। अगर आप देखेंगे तो वह बीजेपी के मुकाबले बेहद तेजी से बढ़ी है।’ इस रिपोर्ट में हम आपको बताएंगे ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फंट (AIUDF) की नीव डालने वाले मौलाना बदरुद्दीन अज़मल के बारे में।

सबसे पहले जानते है मौलाना बदरुद्दीन की निजी जिंदगी के बारे में
मौलाना बदरुद्दीन अज़मल मुख्यरूप से इत्र का कारोबार करते है और साथ मे लोकसभा सांसद है, अजमल असम राज्य जामिया-उलेमा-ए-हिन्दं के प्रमुख व दारूल उलूम देवबंद के सदस्य भी हैं। इस तरह मौलाना बदरुद्दीन अज़मल भारत के सबसे रईस राजनेताओ में से एक है।

अजमल परफ्यूम वेबसाइट के मुताबिक मौलाना बदरुद्दीन अज़मल 1950 में अपना घर छोड़ मुम्बई चले गए। उन्होंने मुम्बई में ,असम से अगरवुड और दहन अल औध मंगाकर बेचने लगे। धीरे धीरे अज़मल ने अपना कारोबार बढ़ा कर दुबई, कुवैत, ओमान, सऊदी अरब, बहरीन जैसे मध्या-पूर्व के देशों में कारोबार फैलाया। आपको बता दे अज़मल के परिवार एशिया का सबसे अमीर एनजीओ (मरकज़-उल मारिस) चलाता है।

इसके अलावा परिवार के पास एशिया का सबसे बड़ा चैरिटेबल अस्पिताल- 500 बिस्तार का हाजी अब्दुदल माजिद मेमोरियल हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर भी है। अपने परिवार के साथ अजमल अजमल फ्रैगरेंसेज एंड फैशन प्राइवेट लिमिटेड, अजमल होल्डिंग एंड इनवेस्ट मेंट्स प्राइवेट लिमिटेड, बेल्लेरजा एंटरप्राइजेज लिमिटेड, हैप्पीर नेस्टय डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, अल-माजिद डिस्टिलेशन एंड प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड और अजमल बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड जैसी कंपनिया चलाते है।

वही राजनीति की बात करे तो अज़मल ने असम में 2015 में ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फंट (AIUDF) की नींव डाली। सिर्फ 6 महीने बाद, 2006 में पार्टी ने 10 सीटों जीतीं। 2016 के असम विधानसभा चुनाव में इस दल ने 126 सीटों में से 13 सीटों जीती थी। बदरुद्दीन अजमल असम की धुबरी सीट से लोकसभा सांसद हैं। इस समय लोकसभा में इस दल के 3 सांसद भी है। पार्टी मुस्लिमो की हित मे काम करने की दावा करती है।

बदरुद्दीन अजमल की संपत्ति का ब्यौरा
मायनेताडॉटइंफो में दी गई जानकारी के मुताबिक 2016 में चुनावी हलफनामे में अजमल ने अपनी संपत्ति 54 करोड़ रुपये होने की घोषणा की थी। लाइव मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक अगर इसमें उनके परिवार की संपत्ति जोड़ा गया तो यह आंकड़ा 200 करोड़ पार कर जाता है। 2016-17 की बात करें तो बीजेपी को कुल 290.22 करोड़ रुपये का कॉर्पोरेटव चंदा मिला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here