वो 22 वजहें जिनसे साबित हो गया की मोदी अबतक के सबसे नाकाम पीएम है

0

भले ही भाजपाई प्रधानमंत्री मोदी को सबसे कामियाब प्रधानमंत्री मानते हो लेकिन सच्चाई क्या है। हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे। 22 वजहें जिससे जानने के बाद आप भी कहेंगे प्रधानमंत्री मोदी अबतक के सबसे नाकाम पीएम है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के 4 साल से ज्यादा हो चुका है लेकिन जिन वायदे को लेकर मोदी सरकार सत्ता में आये थे। लगभग सभी के सभी वायदे धरे के धरे रह गए।

गुजरात चुनाव के दौरान मोदी साहब ने कहा था कि “आखिर मुझसे इतनी नफरत क्यों है? लोगों पर मुझपर भरोसा करना क्या गलता है?”

ये सवाल प्रधानमंत्री मोदी ने मणिशंकर द्वारा ‘नीच’ कहे जाने के बाद कांग्रेस को घेरते हुए लोगों के बीच रखें थे. मोदी ने सवाल पूछते हुए जातिवाद का सहारा लिया था और कहा था कि ”मैं ‘नीच’ क्यों हूं? क्योंकि मैं एक गरीब परिवार में पैदा हुआ हूं, क्योंकि मैं निचली जाति से आता हूं? क्योंकि मैं एक गुजराती हूं? क्या सिर्फ यही वजह है कि वो लोग मुझसे नफरत करते हैं.”

उस वक्त मोदी ने खुद से नफरत को लेकर जो सवाल पूछा था उसका जवाब अब जनता के बीच से देवदन चौधरी नाम के एक व्यक्ति ने दिया है. बताते देवदन चौधरी का यह पोस्ट खूब वायरल हुआ और इस पोस्ट को डेढ़ हजार से ज्यादा लोग भी शेयर कर चुके है।

तो चलिए अब वो बाते जानते हैं जो देवदन चौधरी ने अपने पोस्ट के माध्यम से बताते हुए मोदी को नफरत करने के लायक बताया है।

1. डेमोनेटिज़ेशन के माध्यम से भारत की अर्थव्यवस्था को नष्ट और क्षति के लिए जिम्मेदारी नहीं लेने के लिए.

2. संगठित ध्रुवीकरण के माध्यम से संस्कृति को नष्ट करने के लिए – न सिर्फ धार्मिक, बल्कि क्षेत्रीय, भाषाई और सांस्कृतिक भी.

3. हिंदू धर्म / सनातन धर्म की गहन शिक्षाओं को नष्ट करने के लिए.

4. नकली राष्ट्रवाद की जड़ें जारी रखने के लिए. आपका काम और नीतियां केवल भारत को नुकसान पहुंचा रही हैं.

5. सिर्फ सरकार, पर भारत की नहीं, बल्कि हिंदुओं और विदेशी निहित हितों के लिए- खासकर जियोनिस्ट वैश्विक बैंकिंग कार्टेल के लिए.

6. झूठे वादे जो हर रोज कई चैनलों के माध्यम से फैलाए जा रहे हैं.

7. भारतीय संविधान के सिद्धांतों का उल्लंघन करने के लिए.

8. डेम-फेनिंग मीडिया और संस्थानों द्वारा लोकतंत्र के खंभे को नष्ट करने के लिए – जो सत्य और न्याय के किसी भी प्रकार की पेशकश करने के लिए महत्वपूर्ण हैं.

9. लोगों की आवाज सुनने के बजाए जबरन धमका कर निर्देश लागू करने के लिए.

10. नफरत को बढ़ावा देने के लिए.

11. स्वतंत्रता को रोकने के लिए हर तरीके की चाल चली गई.

12. 2014 से सभी मानव विकास अनुक्रमितों को डूबाने के लिए.

13. नकली नैतिकता का खेल खेलने के लिए

14. जो लोग आपसे सवाल पूछना चाहते हैं, उनसे बचने के लिए- सरकार में आने के बाद अब तक कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं हुई है.

15. जनसंपर्क, प्रचार, घटनाओं और प्रचार पर ध्यान केंद्रित करने के लिए, लेकिन राष्ट्र के वास्तविक मुद्दों पर नहीं.

16. भारत की पारंपरिक विदेश नीति को ‘गैर-गठबंधन’ तरीके से बर्बाद करने के लिए.

17. भाषण के माध्यम से- नफरत और लालच फैलाने के लिए.

18. अपने आस-पास चापलूस रखने के लिए, जिन्हें गवर्नेंस करने का बिलकुल भी ज्ञान नहीं.

19. महान विचारों / गलत प्राथमिकताओं के बारे में जुनूनी होने के लिए और वितरित करने में असफल रहने के लिए.

20. सामाजिक न्याय की नजरअंदाज करके ‘विकास’ के अर्थ को गलत तरीके से पेश करने के लिए.

21. अमीरी के लिए गरीब और मध्य वर्ग लोगों पर भार डालने के लिए.

22. लोगों का भरोसा तोड़ने के लिए.

निष्कर्ष

वाकई फेसबुक पोस्ट के द्वारा देवदन चौधरी ने जो वजहें बताई हैं उसे अगर कोई भी जान ले तो वो मोदी से नफरत ही नहीं बल्कि उनसे घ्रणा करने लग जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here