70 साल में पहली बार भारत की स्थिति ‘कंगाली’ जैसा? बैंकों से पैसा निकालकर भाग रहें हैं लोग !

0
नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बने चार साल हो गऐ लेकिन इतिहास में आजादी के बाद पहली बार ऐसा हो रहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था बहुत बुरी स्थिति में पुहंच गयी है आप कह सकते है भारत कंगाली के स्थिति में आ चुकी है। कल ऐसा ही खबर आया है कि विदेशी निवेशक बाजार में बहुत तेजी से अपना पैसा निकाल रहे है उन्होंने अप्रैल महीने में भारतीय मार्केट से 15,500 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी की है, इतनी रकम पिछले डेढ साल में किसी एक महीने में नही निकाली गयीं है वैसे एफपीआई ने फरवरी में भी पूंजी बाजार से 11,674 करोड़ रुपए निकाले थे लेकिन इस बार सारे रिकॉर्ड को ध्वस्त कर दिया है।

भारतीय बैंकिंग का भी हालत बहुत खराब है पिछले सत्तर साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि भारतीय बैंकों के राजस्व में इस कदर गिरावट दर्ज की गई हैं बैंक डिपोजिट ग्रोथ रेट पिछले सत्तर सालों में सबसे कम हो गया है। मार्च 2018 को खत्म हुए वित्त वर्ष में बैंक में लोगों ने 6.7 फीसदी की दर से पैसे जमा किए। यह 1963 के बाद सबसे कम है। ये जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट उपलब्ध है।
सबसे बड़ी बात तो यह है कि नवंबर 2016 में नोटबंदी किए जाने के बाद तकरीबन 86 फीसदी डिपोजिट बैंकों में पहुंच गयी थी नोटबंदी के बाद नवंबर-दिसंबर 2016 में बैंकों के पास 15.28 लाख करोड़ रुपये आए थे।
इससे वित्त वर्ष 2017 में बैंकों का डिपॉजिट 15.8 पर्सेंट बढ़कर 108 लाख करोड़ रुपये हो गया था लेकिन अब इसकी ग्रोथ 6.7 पर्सेंट रह गई हैं इसे आप ऐसे समझे कि लोग बैंकों से रकम निकालते जा रहे हैं और जमा कराने में कंजूसी कर रहे हैं, किसी का मूड नही है कि रकम वापस बैंक में रखी जाए। ऐसे स्थिति को देखकर लगता है देश और विदेशी जगत के उधोगपति को अब मोदी सरकार पर से भरोसा उठने लगा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here