“इराक़ में मासूमो की लाशों का जिम्मेदार अमेरिका” मिले ठोस सबूत, हो सकती है कार्रवाई

0

हालिया सप्ताहों में इराक के बसरा नगर में लोगों ने बेरोज़गारी, सार्वजनिक सेवाओं का स्तर कम होने और सरकारी केन्द्रों में भ्रष्टाचार होने के विरोध में प्रदर्शन किया था। इराक़ के स्वयं सेवी बल हश्दुश्शाबी के सहायक ने कहा है कि हश्दुश्शाबी के पास ऐसी जानकारियां हैं जो इस बात की सूचक हैं कि बसरा की हालिया अशांतियों के पीछे अमेरिकी दूतावास का हाथ है।अलआलम की रिपोर्ट के अनुसार अबू मेहदी अलमोहन्दिस ने कहा कि अमेरिका के दिशा निर्देशन में कुछ लोगों ने ईरान के वाणिज्य दूतावास सहित इराक के सरकारी और हश्दुश्शाबी के केन्द्रों पर हमला किया ।

और आग लगाई जबकि ईरान मात्र वह देश है जिसने आतंकवादी गुट दाइश से मुकाबले में इराक की सहायता की।उन्होंने कहा कि बसरा में अमेरिकी कांस्लेट हालिया अशांतियों के माध्यम से शीया पार्टियां व गुटों के मध्य लड़ाई कराना चाहता है। उन्होंने बल देकर कहा कि कभी भी शीया पार्टियों या इराक के दूसरे संप्रदायों के मध्य लड़ाई नहीं होगी।

अलमोहिन्दस ने इसी प्रकार कहा कि बसरा की हालिया घटना ने इस देश की सरकार, जिम्मेदारों और स्वयं प्रधानमंत्री की पूर्णरूप विफलता को सिद्ध कर दिया। ज्ञात रहे कि हालिया सप्ताहों में इराक के बसरा नगर में लोगों ने बेरोज़गारी, सार्वजनिक सेवाओं का स्तर कम होने और सरकारी केन्द्रों में भ्रष्टाचार होने के विरोध में प्रदर्शन किया था।

इसी बीच शुक्रवार की रात को कुछ लोगों ने बसरा में ईरानी कांस्लेट पर भी हमला कर दिया था। इस हमले के परिणाम में ईरानी कांस्लेट की इमारत में आग लग गई। ईरान के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने इस हमले की भर्त्सना करते हुए कहा है कि कांस्लेट और डिप्लोमैटिक स्थानों की सुरक्षा इराकी सरकार की ज़िम्मेदारी है।

साथ ही विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने इराकी सरकार से मांग की है कि जल्द से जल्द दोषियों को गिरफ्तार करके सज़ा दी जाये। विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता बहराम क़ासेमी ने उन लोगों को चेतावनी भी दी जो ईरान और इराकी सरकारों एवं राष्ट्रों के मध्य मित्रतापूर्ण संबंधों को ख़राब करने की चेष्टा में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here