BJP और RSS पाकिस्तान प्रेमी है? जिन्ना के मुस्लिम लीग से मिलकर RSS ने बंगाल में सरकार बनाया !

0
भाजपा ने जिन्ना के जिन्न को फिर जिंदा कर दिया है। इस बार निशाना अलीगढ़ युनिवर्सिटी है, जहां यूनियन हाल में जिन्ना की फोटो टंगी है। संघ और भाजपा इसे इस प्रकार उछाल रहे हैं जैसे यह फोटो वहां पर हाल में टांगी गई हो। छात्रसंघ भवन में यह फोटो 1938 में टांगी गई थी। तब जिन्ना को मानद उपाधि दी गई थी। अब लोग सवाल उठाते हुए कह रहे हैं कि जिन्ना की फोटो वहां से हटा दी जाये। यकीनन उनका कहना सही है, क्योंकि भारत के बंटवारे के जिम्मदारों में से एक जिन्ना यकीनन हमारे राष्ट्रीय हीरो नहीं हो सकते। लेकिन यह मांग कोई और करता तो ठीक था, संघ और भाजपा किस मुंह से इस मांग को उठा रहे हैं, वो तो स्वयं जिन्नावाद के प्रतिनिधि हैं।

राजनीति और इतिहास का ज्ञान रखने वाले जानते हैं कि जिन्ना एक प्रखर राष्ट्रवादी थे जो आगे चल कर घोर सम्प्रादावादी बन गये। यही इतिहास सावरकर का भी है, वह भी कुछ एक वर्ष देशभक्ति की मशाल जलाने के बाद साम्प्रदायिकता का शिखर पुरुष बने और भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की नींव पुख्ता करने लगे। अाप को यह भी याद हाेना चाहिए कि इन्हीं सावरकर ने 1942 में हिंदू महासभा के अध्यक्ष की हैसियत से मुस्लिम लीग से समझाैता किया था और तीन प्रांतों में मुस्लिम लीग से मिल कर साझा सरकार बनाई थी, जिसमें बंगाल में सुहरावर्दी लीग के मुख्यमंत्री और संघ से श्यामा प्रसाद मुखर्जी उप मुख्यमंत्री बने थे। यहीं दोनों ने मिलकर बंगाल में स्वाधीनता आंदोलन को कुचलने का प्रयास किया था। जाहिर है कि जिन्ना वादियों और सवारकर वादियों दोनों के हाथ खून से सने हैं। फिर जिन्ना को खलनायक बताने वाले सावरकर को हीरो कैसे बना रहे हैं?

जिन्ना के मजार पर चादर चढाते हुऐ लालकृष्ण आडवानी !
हालांकि अलीगढ छात्रसंघ स्वायत्त है उसका युनिवर्सिटी से कोई सम्बंध नहीं, फिर भी यूनियन हाल से जिन्ना की तस्वीर उतार लेनी चाहिए। अब सवाल है कि क्या देश की संसद से सावरकर की मूर्ति हटायी जायेगी? क्या जिन्ना की मजार पर माफी चादर चढाने वाले, बिना बुलाये जिन्ना की औलाद के घर बिरयानी खाने वाले, पाकिस्तान को अपना छोटा भाई बताने वाले, लाहौर तक बस पर चढकर जाने वाले अपने कुकर्मों के लिए माफी मांगेगे और भविष्य में पाकिस्तानी बिरयानी से परहेज करेंगे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here