चीन करता हैं सांपों की खेती जिसे सुनकर आप भी रह जायेंगे हैरान

0

खेती हर किसान करता हैं पर चीन के किसान जैसी खेती करते हैं ऐसी खेती ना ही किसी ने देखी होगी और ना ही कभी करने की सोची होगी। खेतों में अनाज दालें सब्जियां पैदा की जाती हैं लोग पशुपालन भी करते हैं लेकिन क्या आपको मालूम है कि सांप पालन भी किया जाता हैं। हमारे पड़ोसी देश चीन में लोग जहरीले सांपों की खेती करते हैं और वह भी लाखों की संख्या में चीन के एक गांव में हर साल 30 लाख जहरीले सांप पैदा किए जाते हैं। चीन में एक गांव का औसतन हर शख्स पूरे साल भर में लगभग 30000 सांप पैदा करता हैं यहाँ पाले जाने वाले सांपों में विशालकाय, अजगर खतरनाक कोबरा और जहरीले जहरीले वाइबर सहित कई जानलेवा सांप शामिल हैं।

यहां सांपों की खेती उनके मांस और शरीर के अन्य अंगों के लिए की जाती हैं। सांप का मीट चीन में शौक से खाया जाता हैं साथ ही साहू के शरीर के अंगों का उपयोग दवाओं के निर्माण के लिए भी होता हैं। चीन के जिसिकियाओ गांव में बकायदा स्नेकफॉर्म की जाती हैं। इस गांव की कुल आबादी 1000 के आसपास हैं जिसिकियाओ गांव पहले चाय,जूट और कपास की खेती होती थी लेकिन आज यह गांव स्नेकफॉर्म के नाम से जाना जाता हैं। इस गांव में स्नेकफॉर्म की शुरूआत गांव के ही एक किसान ने की थी, जब वो युवा थे तो गंभीर रुप से बीमार पड़ गए इलाज के लिए उन्हें सांप की जरूरत थी। इसके लिए उन्होंने एक जंगली सांप को पकड़ा इसी दौरान उन्हें सांप से जुड़े कारोबार का ख्याल आया फिर उन्होंने सांप पालना शुरू किया। इससे अब उनकी आमदनी बढ़ने लगी तो गांव के दुसरे किसानों ने भी यही तरीका अपनाया।

आज एक छोटे से गांव में लगभग 100 स्नेकफॉर्मस हैं जहां लकड़ी और शीशे के छोटे-छोटे बक्सों में इन सांपों को पाला जाता हैं। जब सांप के बच्चे अंडो से निकलकर बड़े हो जाते हैं तो उन्हें एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिए पल्स्टिक के थेलो का प्रयोग किया जाता हैं। सांपों को फार्महाउस से बूचड़खाने में ले जाने के बाद सबसे पहले इनके ज़हर को निकाला जाता हैं। और फिर इनका सर काट दिया जाता हैं इसके बाद सांपों को काट कर उन का मीट निकाल कर अलग रख दिया जाता हैं। मीट का प्रयोग खाने और दवा बनाने के लिए किया जाता हैं जबकि सांप की चमड़ी से बैग बनाए जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here