शर्मनाक- यह देश करा रहा है पैग़म्बर साहब का कार्टून बनाने की प्रतियोगिता, दुनियाभर के मुस्लिमों में फैला गुस्सा, किया विरोध

0

इन दिनों मुसलमानों के खिलाफ दुनियाभर में ज़ुल्म किये जा रहे हैं। कोई भी गैर-मुस्लिम ऐसा करने से बाज़ नहीं आता। अब मुसलमानों के दिलों को ठेस पहुंचाने के लिए एक नयी साज़िश को अंजाम दिया है। नीदरलैंड का डच लॉमकर गीर्ट वाइल्डर्स (शैतान) दुनिया भर में मुसलमानों के खिलाफ नफरत भरे बयानों के लिए जाना जाता है। यह शख्स मुसलमानों और इस्लाम का दुश्मन है, अब इस शख्स या कहें शैतान ने एक बार फिर दुनिया भर के मुस्लिमों में तब गुस्सा भर दिया जब इसने इस साल एक ऐसी घोषणा की जिसमें पैग़म्बर मोहम्मद साहब के कार्टून बनाने की प्रतियोगिता कराना है। इस प्रतियोगिता के अनुसार, जो सबसे खराब कार्टून बनाएगा वह इस घटिया प्रतियोगिता का विजेता बन जाएगा। टाइम्स नाउ न्यूजपेपर के मुताबिक, पाकिस्तान के सीनेट ने सोमवार को एक इस्लाम विरोधी डच सांसद गीर्ट वाइल्डर्स द्वारा पैगंबर मुहम्मद (स.अ.व.) के कार्टून बनाने की प्रतियोगिता की निंदा करते हुए एक प्रस्ताव अपनाया है।

संसद के ऊपरी सदन में अपने पहले भाषण में, प्रधान मंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र और इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) के संगठन को ‘निंदात्मक कारिकाओं’ का मुद्दा उठाने का वादा किया है। इस प्रस्ताव के पारित होने के बाद, इमरान खान ने कहा कि केवल बहुत कम यूरोपीय लोग इस तरह की निंदात्मक सामग्री से मुसलमानों के दर्द को समझते हैं। ख़ास तौर से, ये गीर्ट वाइल्डर्स इस्लाम विरोधी इस्लाम के विचारों के लिए जाने जाते हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ऐसी घटनाओं की के लिए मुस्लिम देशों के बीच एकता की कमी को दोषी ठहराया।

इमरान खान ने कहा कि मुस्लिम देशों की “सामूहिक विफलता” के रूप में इसका वर्णन करते हुए कहा कि, निंदा की सामग्री के खिलाफ कोई अंतरराष्ट्रीय नीति नहीं है ना ही इस तरह के अपराधों के लिए कोई सज़ा है जो मुसलसल मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फ़ैला रहे हैं। अब पकिस्तान ने इस मुद्दे से लड़ने की कसम खायी है। इस प्रतियोगिता के खिलाफ दुनिया भर के मुस्लिमों में गुस्सा है, और वह इसका विरोध कर रहे हैं। वहीं आपको बता दें, कि डच प्रधान मंत्री मार्क रूटे ने अपनी सरकार को इस प्रतियोगिता से दूर रहने को कहा है। उन्होंने कहा कि, वाइल्डर्स सरकार का सदस्य नहीं है। प्रतियोगिता एक सरकारी पहल नहीं है।

डच लॉमकर गीर्ट वाइल्डर्स

वहीं दुनिया भर के मुसलमानों का कहना है की ये पैगंबर मोहम्मद साहब के शारीरिक चित्रण कर, इस्लाम को बदनाम करने की साजिश है। अब वक्त आ गया है कि हम सबको एक-जुट होकर इस प्रतियोगिता का विरोध करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here