केरल- बाढ़ पीड़ितों का सामान चोरी करते धरे गए RSS कार्यकर्ता?

0

जैसा कि आप सबको पता ही है कि पिछले दिनों केरल में एक भयंकर बाढ़ आ गई थी जिसमें बहुत से लोग मारे गए थे और लाखो लोग बेघर हो गए थे। इसके अलावा इस भयंकर बाढ़ से करोड़ों रुपयों का भी नुकसान हुआ था। इसी सब के बीच अब सोशल मीडिया पर एक खबर आ रही है जिसमें बताया गया है कि RSS संघ के कार्यकर्ता केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के लिए गए थे और मदद करने के बहाने लोगों के घरों से लूटपाट करते हुए रेंगे हाथों पकड़े गए। ये खबर सोशल मीडिया पर बहुत तेजी के साथ वायरल हो रही है। जिसमें बताया गया है कि rss के कार्यकर्ता केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के लिए गए और उन्हें चोरी के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उन्हें जमकर धोया भी ।

आपको बता दें कि ये ख़बर अभी तक सोशल मीडिया, जैसे फ़ेसबुक आदि पर ही देखने को मिल रही है। इस खबर की न तो किसी पुलिस अफसर ने अभी तक पुष्टि की है और न ही किसी मीडिया समूह ने। वैसे इस खबर में कितनी सच्चाई है, इसका अभी तक कोई ठोस सबूत नहीं मिल पाया है। दरअसल सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हो रहा है, कुछ जिसमें लोगों को पुलिस द्वारा पीटते हुए दिखाया गया है और उस फ़ोटो पर लिखा है, ‘मदद के बहाने जेवर चोरी करते पकड़े गए संघ के कार्यकर्ता’

आखिर क्या है इस खबर की सच्चाई-

जब इस फोटो को फेसबुक पर वायरल होता हुआ देखा गया तो ABP News ने इस फोटो की सच्चाई की गहन जांच पड़ताल की । ABP news की जांच पड़ताल में सामने आया कि ये खबर बिल्कुल झूठी है और ये एक अफ़वाह है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में दिखाई गयी rss कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी और ये ख़बर दोनों ही झूठी साबित हुईं हैं।

यह है इस फोटो की सच्चाई-

इस तस्वीर में rss कार्यकर्ता के कॉलर पर दो पुलिस वालों के हाथ हैं, और पीछे से एक पुलिसकर्मी लाठी भांजने को तैयार दिख रहा है। ये तस्वीर 12 नवम्बर 2012 को दैनिक जागरण में छपी थी। दरअसल 11 नवंबर 2012 को rss कार्यकर्ताओं ने एक साइकिल यात्रा निकाली थी। ये साइकिल यात्रा आंवलखेड़ा से रामबाग़ को लौट रही थी तब एक कार ने साइकिल यात्रा में शामिल एक साइकिल को टक्कर मार दी थी।

जिससे rss कार्यकर्ताओं ने बवाल मंचाना शुरू कर दिया था। पुलिस को तब लाठीचार्ज करने की नौबत आ गयी थी। इस लाठीचार्ज में आरएसएस के कई कार्यकर्ता घायल हुए थे। ये वायरल हो रही तस्वीर उसी लाठीचार्ज के दौरान की है।

इस तस्वीर में मार खा रहे rss कार्यकर्ता का नाम अजीत चाहर है। जो कि फतेहपुर सीकरी का रहने वाला है। ABP news की जांच पड़ताल में यह तस्वीर बिल्कुल झूठी पाई गई और ये केरल में मदद के बहाने rss कार्यकर्ताओं के द्वारा ज़ेवर चुराने की खबर भी एकदम झूठी साबित हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here