लगभग दो हज़ार ग़ैर मुस्लिमो ने, मुस्लिमो को नमाज़ और क़ुरान पढ़ते देख अपनाया इस्लाम

0

UAE की दर अल बेर सोसाइटी के मुताबिक़, 2018 की पहली छमाही में 2,186 प्रवासियों ने इस्लाम कुबूल किया है. जिसमें सिर्फ 1,993 प्रवासियों ने दुबई में इस्लाम कुबूल किया है जबकि रस अल खैमाह शाखा में 193 प्रवासियों ने इस्लाम कुबूल किया है.ये सोसायटी दुर्लभ जगह पर भी जाकर इस्लाम का प्रचार प्रसार करती है। इस सोसायटी के नाम बहुत रिकॉर्ड दर्ज है। ये दूर दराज़ देशों में जाकर नबी के पैगाम को आम करते हैं जिस से उनके अख़लाक़ और लहज़े से लोग इस्लाम के करीब आ जाते हैं कभी देखना जो कहते है कि इस्लाम तलवार के दम पर आया वो यंहा जाकर इन सब से जानकारी ले और बताएं की उन्होंने क्या अनुभव किया।

खलीज टाइम्स के मुताबिक, दार अल बेर के सीईओ अब्दुल्लाह अली बिन ज़ैद अलफालसी ने कहा कि इस्लामी सूचना केंद्र के माध्यम से, एसोसिएशन इस्लामी संस्कृति को बढ़ावा देने और संयुक्त अरब अमीरात की विदेशी आबादी के साथ सहिष्णुता, संयम और शांति के मूल्यों को उजागर करने का प्रयास करता है. दर अल बेर का उद्देश्य इस्लाम के बारे में गलत धारणाओं को दूर करना और नए मुस्लिमों के दिल में प्रामाणिक इस्लामी मूल्यों और अवधारणाओं को मजबूत करने पर काम करना है.

प्रतीकात्मक फोटो

इस्लामी सूचना केंद्र-दुबई के निदेशक रशीद अल जुनीबी ने कहा कि केंद्र दुबई में अपने मुख्य कार्यालय में देखा गया और राक में शाखा महाद्वीपों से दुनिया भर के 35 से अधिक देशों जैसे एशिया, यूरोप, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के लोग शामिल है.

इन सबीह प्रवासियों का कहना है की इन्होने मुस्लिमों में भाईचारा और प्यार देखा जसकी वजह से इन्होने इस्लाम कुबूल करने का फैसला किया है. साथ ही इन प्रवासियों का कहना है कि इन्होने मुसलमानों को मस्जिद में नमाज़ पढ़ते देखा है और कुरान की तिलावत करते देखा जो इन्हें बेहद पसंद आया.

साथ ऐसी बहुत सी बारीकियां है जिसकी बिनाह पर इस्लाम कुबूल किया है. साथ ही इन लोगों का कहना है कि इस्लाम अमन का मज़हब है इसलिए वह इस्लाम कुबूल करके बेहद खुश है.UAE में पिछले छह महीनों में केंद्र ने सांस्कृतिक खड़े इलाकों में विभिन्न स्थानों पर 436,660 शैक्षिक सामग्री वितरित करने सहित धार्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक पहलुओं को संबोधित करते हुए

प्रतीकात्मक फोटो

1,951 वर्ग और व्याख्यान प्रदान करते हुए शैक्षिक, सांस्कृतिक और मनोरंजक गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला का आयोजन किया. जिसमें इस्लाम से जुडी कई ख़ास और अहम बातें बतायीं गयी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here