मोहम्मद साहब की इस बात को जानकंर हिन्दू लड़की ने इस्लाम धर्म अपनाया

0

किसी के दिल में अगर नफरत हो तो उसे प्यार से खत्म किया जा सकता है,अगर नफरत करने वाले से आप भी नफरत करेंगे तो कभी भी आप उस के दिल से नफरत खत्म नहीं कर पाएंगे. इंसान अगर इंसान से नफरत करता रहेगा, तो दुनिया में रोज़ लड़ाई होती रहेगी, लेकिन अगर इंसान एक दूसरे से प्यार करना सीख ले तो कहीं किसी तरह की लड़ाई नहीं होगी.

अल्लाह के रसूल ने जब इस्लाम की दावत देनी शुरू की तो मक्का में एकबूढ़ी औरत हर दिन आप के ऊपर कूड़ा फेंका करती थी, लेकिन जब उसने एक दिन आप पर कूड़ा नहीं फेंका तो आप उसके घर गए तो पता चला कि वह बीमार है, इसी बात से वह बूढ़ी औरत आप पर इस्लाम ले आई।और मुसलमान हो गई. इस तरह के कई वाकये इस्लाम की तारीख में हमें मिलते हैं, कि अल्लाह के रसूल की छोटी छोटी बातों और कामों को देख कर लोग इस्लाम कबूल कर लिए हैं.

हम आप को आज यहाँ पर एक ऐसे ही हिन्दू लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं,जिस अल्लाह के रसूल के एक हुक्म को देख कर इस्लाम कबूल कर लिया. वह लड़की बताती है कि एक बार मैं अपने मौसा के साथ कहीं जा रही थी, तो रास्ते में एक पत्थर पड़ा था, वह पत्थर मेरे मौसा ने उठा कर सड़क के किनारे रख दिया।और मुझे बताया कि मोहम्मद साहब ने इस तरह करने को कहा है कि रास्ते से पत्थर हटा दिया करो, ताकि किसी को उस पत्थर से तकलीफ न पहुंचे.

ह लड़की कहती है कि यह बात सुन कर और देख कर मेरे दिल में इस्लाम के लिए मोहब्बत पैदा हो गई, और मैंने इस्लाम धर्म अपनाने का फैसला कर लिया. मुझे लगा कि आज तक यह बताया जाता रहा है कि इस्लाम धर्म तलवार के ज़ोर से फैला. लेकिन इस बात को देख कर महसूस हुआ कि इस्लाम तलवार के ज़ोर से नहीं बल्कि अपने अच्छे कामों की वजह दुनिया भर में फैला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here