एशियाई गेम्स- इस मुस्लिम खिलाड़ी की वजह से 36 साल बाद भारत को घुड़सवारी में मिले 2 पदक

0

18 वे एशियाई खेलों में रविवार को आठवें दिन घुड़सवारी स्पर्धा में भारत को दो रजत पदक हासिल हुए हैं यह पदक 36 साल बाद फवाद मिर्जा ने हासिल किए हैं महज़ 26 साल के फवाद मिर्ज़ा ने सेनोर मेडिकोट नाम के घोड़े के साथ फाइनल में 26.40 सेकंड में अपनी स्पर्धा को पूरा कर दूसरा स्थान हासिल किया और सिल्वर पर कब्जा जमाया जबकि उनके प्रयासों से टीम भी दूसरा स्थान हासिल करने में सफल रही फवाद ने ऐसे समय में यह उपलब्धि हासिल की जब भारतीय घुड़सवारी टीम को रवाना होने से केवल 1 दिन पहले मान्यता कार्ड मिले थे।

ऐसा भारतीय घुड़सवारी महासंघ की अंदरूनी कलह के कारण हुआ था क्योंकि इएफआई ने चयन को अमान्य घोषित कर दिया था। 5 साल की उम्र से घुड़सवारी सीख रहे मिर्जा ने 2014 में हुए एशियाई खेलों में इसी स्पर्धा में दसवां स्थान हासिल किया था ऐसे में यह एशियाई खेलों का उनका उनका पहला पदक है वहीं उन्होंने भारत को 36 साल बाद घुड़सवारी में पदक दिलाकर इतिहास भी भी रचा है।

भारत में इससे पहले एशियाई खेलों की घुड़सवारी में 3 स्वर्ण सहित 10 पदक जीते हैं लेकिन इस खेल में भारत की तरफ से मिर्जा से पहले आखिरी व्यक्तिगत पदक 1982 में दिल्ली एशियाई खेलों में जीते गए थे तब रघुवीर सिंह ने स्वर्ण पदक जीता था जबकि भारत के गुलाम मोहम्मद खान ने रजत और प्रहलाद सिंह ने कांस्य पदक हासिल किया था

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here